Hindi Quotes, Hindi Suvichar on Chankya Niti, Chankya Quotes. 


           आचार्य चाणक्य जिनको कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है जिन्होंने अनेक वेद पुराणों का अध्यन करके अनेक तथ्यों एवं सिद्धांत बनाए|


Hindi Quotes, Chankya Quotes
Hindi Quotes, Chankya Quotes 


          अर्थशास्त्र के विषय का उनको बहुत ही अछा ग्यान था जिससे उन्होंने राजनीति, सामाजिक व्यवहार एवं लोक व्यवहार के सन्दर्भ मे अनेक नीतियां बनाए जो कि समय समय पे लोगों का मार्गदर्शक बनी |

उसमे से ही कुछ सिद्धांत मे यहा पे पेश कर रहा हूं |

 1. निवास :


दुष्ट पत्नी,
जूठा मित्र,
बदमाश नौकर,
और सर्प के साथ
निवास साक्षात मृत्यु के समान है |

 2. धन संचय :


भविष्य मे आने वाली मुसीबतों के लिए धन को एकत्रित करते रहना चाहिए |ये नहीं सोचना चाहिए कि धनवान व्यक्ति को मुसीबत नहीं आती!

 3. निवास ना करे :


ऎसे स्थान-जगह पे एक दिन भी निवास न करे जहा पे ये पांच ना हो,,,
एक धनिष्ठ व्यक्ति,
एक ब्राम्हण जो वेदों मे निपुण हो,
एक राजा,
एक नदी,
एक वैद्य - चिकित्सक.

 4. बुद्धिमान व्यक्ति को नहीं जाना चाहिए जहा... 


रोजगार के माध्यम ना हो,
जहा लोगों को किसी बात का भय न हो,
जहा लोगों को किसी बात की ' लज्जा ' न हो,
जहा लोग ' बुद्धिमान ' न हो,
जहा लोगोँ की वृति ' दान - धर्म ' की ना हो|

 5. परिक्षा :


रिश्तेदार की परीक्षा तब करे जब आप मुसीबत मे घिरे हुए हो,
नोकर की परीक्षा तब करे जब वह कर्तव्य का पालन न कर रहा हो,
मित्र की परीक्षा विपरित परिस्थितियों में करे,
जब आपका वक़्त अछा न चल रहा हो तब पत्नी की परीक्षा करे |

 6. अच्छा मित्र वह है जो...
 

आवश्यकता पड़ने पर काम आए,
किसी दुर्घटना होने पर काम आए,
जब अकाल पड़ा हो तब काम आए,
जब हमे राजा के दरबार मे जाना पड़ जाए,
जब हमे श्मशान घाट जाना पड़े |

Hindi Quotes, Chankya Quotes
Hindi Quotes, Chankya Quotes 

 7. महिला - स्त्री मे पुरुष की अपेक्षा...
 

भूख दो गुना,
लज्जा चार गुना,
साहस छः गुना,
काम आठ गुना होता है |

 8. पौरुषवान - तपस्वी - पुरुष वहीं हे जो...
 

भोजन के योग्य पदार्थ और भोजन करने की क्षमता रखता हो,
सुन्दर स्त्री एवं उसे भोगने के लिए काम शक्ति,
पर्याप्त धनराशि एवं दान देने की भावना हो,

 9. उस व्यक्ति ने धरती पे स्वर्ग को पा लिया :


जिसकी संतान आज्ञाकारी हो,
जिसकी पत्नी उसकी इच्छा के अनुसार व्यवहार करती है,
जिसे अपने धन पर संतोष हे |

10. मन का विचार-कार्य :


मन में सोचे हुए कार्य को किसी के सामने प्रकट न करे, ब्लकि मनन पूर्वक उसकी सुरक्षा करते हुए उस कार्य मे ' परिणत ' कर दे |

11. दुखदायी :


मूर्खता दुखदायी है,
जवानी भी दुखदायी है,
लेकिन सब से ज्यादा दुख दायी किसी दूसरे के घर जाकर उसका ' अहसान ' लेना है |

12. नहीं होता :


हर पर्वत पे ' माणिक्य ' नहीं होते,
हर हाथी के सर पे ' मणि ' नहीं होता,
हर स्थान पे ' सज्जन पुरुष ' भी नहीं होते,
हर वन मे ' चंदन ' का वृक्ष भी नहीं होता!

13. बच्चे :


ज्यादा लाड-प्यार से बच्चों मे गलत आदतें पड़ती है,
कड़ी शिक्षा देने से वे अच्छी आदतें सीखते हैं,
इसलिए जरूरत पड़ने पर दण्डित करे और
ज्यादा लाड ना करे |

14. बल :


एक ब्राम्हण का बल उसके तेज और विद्या है,
एक राजा का बल उसकी सेवा में है,
एक वैश्य का बल उसकी दोलत मे है,
एक शूद्र का बल उसकी सेवा परायणता मे है |

15. पतन - नष्ट :


जो व्यक्ति
दुराचारी,
कुदृष्टि,
एवं बुरे स्थान पर रहने वाले मनुष्य के साथ मित्रता करता है,
वह शीध्र नष्ट हो जाता है |

Hindi Quotes, Chankya Quotes
Hindi Quotes, Chankya Quotes 

यह Hindi Quotes,
Hindi Suvichar,
Chankya Quotes,
chankya niti पे आधारित है जोकि आचार्य chankya ने काफी अध्यन कर के ढूंढे है |
     
जोकि मनुष्य की काफी सारी समस्याओं को दूर करने की क्षमता रखते हैं |

धन्यवाद