Suvichar In Hindi,Hindi Quotes 


Hello Freinds,


आज मे फिर से Hindi Quotes, Hindi Suvichar के बारे में Suvichar Post कर रहा हूं |


ये Suvichar In Hindi आप अलग अलग Social Platforms पे इस्तेमाल कर सकते हैं |लोगों को भेज सकते हैं एक नया दिन बना सकते हैं, उनका भी दिन बना सकते हैं |
Suvichar In Hindi मे नीचे प्रस्तुत कर रहा हूं |


 1.
जहा नीति एवं बल से काम लिया जाता है,
     वहां चारो ओर से सफ़लता प्राप्त होती है|
     ___शंकराचार्य



Suvichar In Hindi
Suvichar In Hindi


 2.
सफलता प्राप्त करने के लिए मनुष्य मे...,
     उत्साह, सामर्थ्य एवं मन में जोश का होना अति आवश्यक है |
      ___वाल्मीकि रामायण


 3.
अगर आप जीवन में सफ़लता प्राप्त करना चाहते हैं तो...
     धैर्य को अपना परम मित्र,
     अनुभव को अपना बुद्धिमान सलाहकार,
     सावधानी को अपना बड़ा भाई एवं
     आशा को अपना संरक्षक बना ले|
     ___एडीसन


 4.
लोगों को परखते रहेंगे,
     तो उनको प्यार करने का समय नहीं मिलेंगा



Suvichar In Hindi
Suvichar In Hindi


 5.
कभी कभी समय के परिवर्तन से मित्र भी शत्रु...,
     और शत्रु भी मित्र बन जाता है
     क्योंकि ' स्वार्थ ' बहुत बलवान होता है |
      ___वेदव्यास


 6.
मौन के फल स्वरूप प्रार्थना,
     प्रार्थना के फल स्वरूप श्रद्धा,
     श्रद्धा के फल स्वरूप प्रेम
      एवं प्रेम के फल स्वरूप सेवा |
      ___mother Teresa


 7.
अगर आप हंसेंगे तो जगत आपके साथ हंसेंगा
     अगर आप रोयेंगे तो आपको अकेले ही रोना पड़ेगा |



Suvichar In Hindi
Suvichar In Hindi


 8.
विवेक जीवन मे नमक की तरह है |
     कल्पना जीवन में चीनी की तरह है |
     एक जीवन को सुरक्षित रखता है
     तो दूसरा जीवन मे मधुरता लाता है |


 9.
जेसे समुद्र के ना चाहते हुए भी नदिया उस से मिल जाती है |
     वैसे ही सुख समृद्धी बिना बुलाए धर्म एवं चारित्र्य के पालन करने वाले के पास पहुंच जाती है |
       ___गोस्वामी तुलसीदास


10.
छोटी छोटी बातों मे ही अपने जीवन के सिद्धांतो की कसौटी होती है |
       ___महात्मा गाँधी



Suvichar In Hindi
Suvichar In Hindi


11.
आपकी संपत्ति के अनुसार दान कीजिए अन्यथा ईश्वर आपके दान के अनुसार आपकी संपति बना देंगे 


12.
कमरे में एक चित्र हो चलेगा,
      जीवन मे एक अछा मित्र हो चलेगा,
      मिला लो हाथ भले हाथ हो गन्दा,
      हृदय से पवित्र साफ हो तो चलेगा |


13.
मनुष्य के दो प्रकार है
      एक घोर अंधकार में जागता है
      और दूसरा पूर्ण प्रकाश मे भी निद्रा मे लिन रहता है |
      ___खलील jibran


14.
मनुष्य के मन में खुद की दुनिया होती है जो स्वर्ग को नर्क एवं नर्क को स्वर्ग बनाती है |
       ___Shakespeare



Suvichar In Hindi
Suvichar In Hindi

15.
हमे लोगों के मन के भाव समझने मे देर लगती है
      लेकिन कभी कभी हम खुद अपने मन के भाव समझने के लिए असमर्थ होते हैं |
      __रवीन्द्रनाथ टैगोर


16.
भूल हो जाए उसमे पाप नहीं लेकिन भूल को छिपाने मे भयंकर पाप है |
      ___महात्मा गांधी


       तो दोस्तों ये थे आपके लिए Suvichar In Hindi.

      आशा रखता हूं आपको ये आपको पसंद आए होंगे|Please आप अपने सुझाव मुझे comment मे भेजे मे और भी अच्छे Suvichar In Hindi Post करता रहूँगा |

     आपका बहुत बहुत धन्यावाद.